अजीतगढ़ में कॉलेज छात्रा के दुष्कर्म के प्रयास का मामला

आरोपित की दस दिन बाद भी गिरफ्तारी नही होने पर फूटा आक्रोश
.
गुस्साएं लोगो ने किया थाने का घेराव कर पुलिस के प्रति जताया अक्रोश
.
अजीतगढ़ (शाहपुरा) । कस्बे के टैगौर_बालिका_महाविद्यालय में दस दिन पूर्व छात्रा से दुष्कर्म के प्रयास के मामले में अभी तक आरोपित के खिलाफ कार्रवाई नही होने से मंगलवार सांय को डॉ. भीमराव अम्बेडकर मानव कल्याण संस्था सहित कई दलित समाज कई कई संगठनो के लोगो ने अजीतगढ़ थाने पहुंच कर पुलिस की मामले में ढिलाई के प्रति आक्रोश व्यक्त किया। लोग थाने में घेराव प्रदर्शन कर धरने पर बैठ गए। थाने के कार्यवाहक थाना प्रभारी मूलाराम ने लोगो से समझाईस का प्रयास किया लेकिन लोग नही माने बाद में मामले के जांच अधिकारी सीकर एसटीएससी सेल के उपाधिक्षक जयसिंह तंवर से दूरभाष पर वार्ता के बाद लोग शुक्रवार तक कार्रवाई नही होने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी देकर लौट गए।
जानकारी के अनुसार कस्बे के टैगोर बालिका महाविद्यालय में 21 मई को प्रायोगिक परीक्षा देने के लिए सुबह ग्राम पारोडा की छात्रा आई थी। आरोप है कि महाविद्यालय के संचालक ने छात्रा के साथ दूष्कर्म का प्रयास किया। छात्रा वहॉ से हो हल्ला कर कॉलेज से बाहर आई तथा परिजनो को सूचित किया। इसके बाद परिजन आकर पुलिस थाने में कॉलेज संचालक रामनिवास पीपलोदा के खिलाफ दूष्कर्म के प्रयास का मामला दर्ज करवाया था। मामले की जांच सीकर एसटीएससी सेल के उपाधिक्षक जयसिंह तंवर कर रहे है।
मामले में घटना के दस दिन बाद भी आरोपित के खिलाफ कार्रवाई नही होने पर मंगलवार सांय को अनुसूचित जाति सहित विभिन्न संगठनो की ग्राम पारोडा में बैठक़ आयोजित हुई। बैठक़ में वक्ताओं ने पुलिस की कार्यशेली के प्रति रोष जताते हुए पुलिस थाने पहुंचने का निर्णय लिया। बडी संख्या में एकत्रित लोग पुलिस थाने पहुंच कर धरने पर बैठ गए। धरने में डॉ. भीमराव अम्बेडकर मानव कल्याण संस्था के अध्यक्ष बीरबल बाकोलिया, श्रीमाधोपुर विकास मंच के अध्यक्ष नरेन्द्र महरोली, एडवोकेट नोटरी कमल किशोर वर्मा, राजस्थान रैगर विकास समिति के पूर्व अध्यक्ष ईश्वर लाल कुलदीप, छितर मल बाकोलिया, पूरण मल रैया सहित कई लोगो ने पुलिस की कार्यशैली के प्रति आक्रोश जताते हुए आरोपित को गिरफ्तार करने की मांग की।
छात्रा के परिजनो ने बताया कि छात्रा घटना के बाद सदमे है इसके बावजूद भी आरोपित पुलिस पकड से दूर है। सूचना पर कार्यवाहक थाना प्रभारी मूलाराम मौके पर पहुंच कर लोगो से समझाईस का प्रयास किया तथा मामला सीकर एसटीएससी सेल में होने की बात कहते हुए जांच सीकर होने का हवाला दिया । इस पर लोग आक्रोशित हो गए तथा पुलिस के खिलाफ नारे लगाने लगे जिससे माहौल आक्रोशित हो गया। कार्यवाहक थाना प्रभारी ने धरनार्थियों की जांच अधिकारी सीकर एसटीएससी सेल के उपाधिक्षक जयसिंह तंवर से दूरभाष पर वार्ता करवाई। जांच अधिकारी के आश्वासन के बाद लोग गुरूवार तक आरोपित की गिरफतारी नही होने पर शुक्रवार को सुबह दस बजे भारी संख्या में थाने आकर आंदोलन शुरू करने की चेतावनी देकर लौट गए। इस अवसर पर बडी संख्या में लोग मौजूद थें।

Related posts

Leave a Comment