हाईकोर्ट के आदेशों की धज्जियां,हवामहल जोन में अवैध इलेक्टोनिक शोरूम का तहखाना खोदा गया, जिम्मेदार आंखेमूंद कर बैठें.

illigal-consutruction-jaipur

जयपुर। शहर के रिहायशी क्षेत्रों में आवासीय निर्माण की आड़ में गुलाबी नगर की पुरानी इमारतों को ध्वस्त कर धड़ल्ले से व्यवसायिक निर्माण में तब्दील करने का काम जोरों पर चल रहा है। प्रधानमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट स्मार्ट सिटी योजना में शामिल जयपुर शहर को जहां सरकार पूरी तरह हैरिटेज रूप देने में लगी है वहीं, शहर में कुछ लोग इन धरोहरों का व्यवसायिकरण करने में जी जान से जुटे हैं।

क्या है मामला 

ऐसा ही एक मामला नगर निगम के हवामहल जोन पूर्व में सूरजपोल बाजार का सामने आया हैं, जहां आवासीय निर्माण की आड़ में दो दुकानों 213, 214 के ऊपर कमर्शियल कॉम्प्लेक्स खड़ा कर दिया गया है, और वहां धड़ल्ले से व्यवसायिक गतिविधियां जारी हैं। हद तो तब हो गई जब हाईकोर्ट के आदेश की अवहेलना करते हुए इसमें तहखाना भी खोदा जा चुका है। जबकि नगर निगम प्रशासन आंखें मूंद कर बैठा रहा। मामले को जब जोन के जेईएन और गजधर के संज्ञान में लाया गया तो पहले उन्होंने अनभिज्ञता जाहिर की, फिर पुराना निर्माण बताते हुए मामले से पल्ला झाडऩे की कोशिश की।

लेकिन, सूत्रो की माने तो बहुमंजिला इमारत के नीचले तल पर हैरिटेज स्वरुप को खतरे में डालते हुए , नगरनिगम की नाक के नीचे तहखाना खोदा गया . मामला मीडिया में गया तो आनन फाऩन में अवैध निर्माँण और रिहायशी इलाके में वाणिज्य गतिविधियां करने की अनुमति कैसे मिली इसकी लिपापोती की जा रही है।

चार दिवारी में तहखानों पर हाईकोर्ट की रोक के बावजूद आए दिन इस तरह के मामले सामने आ रहे हैं। जबकि नगर निगम आंखे मूंद कर बैठा है। अगर इसी तरह से शहर की पुरानी इमारतों को तोडकऱ उनका व्यवसायीकरण होता रहा तो जयपुर के हैरिटेज सिटी के तमगे को छिनते देर नहीं लगेगी.

बहुमंजिला निर्माण तो पहले से बना हुए है नए साल की छुट्टियों की आड़ में तहखाने की मिट्टी निकाली गई है। मै तो छुट्टियों पर था, मामला दिखवाता हूं। 

गिरधारी शर्मा, गजधर

गिरधारी शर्मा, गजधर हवामहल जोन पूर्व

Related posts

Leave a Comment