गांधीवादी श्री सुब्बाराव ने दिया अनेकता में एकता और सर्वधर्म समभाव का संदेश

जयपुर । भारत एक विशाल देश है, जहां हजारों सालों से विभिन्न धर्मो ने अनेकता में एकता, सर्वधर्म समभाव और अपने भीतर ही ईश्वर को ढूंढने का संदेश दिया है। नफरतों के इस दौर में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के विचार और दर्शन ही एक मात्र सहारा है। जिससे पूरी दुनिया शान्ति के पथ पर आगे बढ़ सकती है। आज पूरा विश्व महात्मा गांधी के बताये रास्ते पर चलने के लिए आतुर है। युवाओं को उनसे सीख लेकर आगे बढ़ना होगा।

सुविख्यात गांधीवादी एवं राष्ट्रीय युवा योजना प्रोजेक्ट के अध्यक्ष एस.एन.सुब्बाराव ने शनिवार को मदार गेट पर आयोजित सर्वधर्म प्रार्थना सभा और भारत की संतान कार्यक्रम में व्यक्त किए। महात्मा गांधी की शान्ति और सादगी की विरासत का झण्डा उठाए 91 साल के युवा सुब्बाराव को सुनने के लिए बड़ी संख्या में युवा एकत्र हुए। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के 150वें जयन्ती वर्ष के उपलक्ष्य में आयोजित हुए इस कार्यक्रम में बारिश के बावजूद लोग शहर के मुख्य बाजार में जमे रहे।

उन्होंने कहा कि वर्तमान दौर में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के अहिंसा और शान्ति के मार्ग की सर्वाधिक आवश्यकता है। युवा गांधी को जानें और समझे तो उनके बताए मार्ग पर चलना बेहद आसान हो जाएगा। भारत की आजादी के बाद विश्व में कई राष्ट्र आजाद हुए और उनके नेताओं ने भी गांधी के बताए मार्ग पर चलकर ही सफलता हासिल की। नफरत और हिंसा समस्या का हल नहीं है। सफलता प्राप्त करनी है तो गांधी की तरह दृढ़ होकर डटे रहना होगा।

कार्यक्रम में महात्मा गांधी जीवन दर्शन समिति के जिला समन्वयक डॉ. श्रीगोपाल बाहेती, पूर्व विधायक श्री ललित भाटी, विजय जैन, पूर्व विधायक श्रीमती नसीम अख्तर इंसाफ, महेन्द्र सिंह रलावता, युवा समन्वयक शक्ति प्रताप सिंह राठौड़, सौरभ बजाड़, राजकीय महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. एम.एल.अग्रवाल एवं उमेश शर्मा आदि सहित बड़ी संख्या एवं शहरवासी उपस्थित थे।

अनेकता में एकता का संदेश दे गया सांस्कृतिक कार्यक्रम
महात्मा गांधी जीवन दर्शन समिति द्वारा आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम अनेकता में एकता का संदेश दे गया। श्री सुब्बाराव के साथ आए 18 राज्यों के युवाओं ने अपने-अपने प्रदेश की प्रस्तुति देकर सभी मन मोहा। भारत की संतान कार्यक्रम के तहत सभी राज्य के युवाओं ने अपने -अपनी भाषाओं में प्रस्तुति दी। इसके पश्चात सद्भावना पदयात्रा मदार गेट से राजकीय महाविद्यालय तक निकाली गई। राजकीय महाविद्यालय में श्री सुब्बाराव ने बुद्धिजीवियों के साथ चर्चा की।

सैकड़ों डाकुओं आत्मसमर्पण कराने वाले श्री सुब्बाराव
सुविख्यात गांधीवादी एवं राष्ट्रीय युवा योजना प्रोजेक्ट के अध्यक्ष श्री एस.एन.सुब्बाराव ने गांधी के विचारों के साथ अपने जीवन का लम्बा समय चम्बल के बीहड़ों में काटा है। उन्होंने हिंसा का रास्ता अपनाकर समाज की मुख्यधारा से अलग होने वाले सैकड़ों बागी डाकुओं को अहिंसा एवं शान्ति की सीख देकर आत्मसमर्पण कराया। आज वे सभी डकैत समाज की मुख्यधारा में अपने-अपने क्षेत्र में शान्तिदूत बनकर जीवन यापन कर रहे हैं।

पुष्कर दर्शन एवं दरगाह जियारत
श्री सुब्बाराव के साथ आए गांधी कार्यकर्ताओं ने आज पुष्कर में जगतपिता ब्रह्मा मन्दिर दर्शन एवं सरोवर पूजन किया। इसके पश्चात उन्होंने अजमेर में सूफी संत मोईनुद्दीन चिश्ती की दरगाह पर जियारत की।

Related posts

Leave a Comment